UPSSSC Junior Engineer Previous Year Paper In Hindi & English 2022

UPSSSC Junior Engineer Previous Year Paper: UPSSSC Sub Engineer Exam की तैयारी करने वाले उम्मीदवार यहां से UPSSSC Sub Engineer Previous Year Paper, Syllabus, और Exam Pattern से जुड़ी जानकारी तथा PDF File Download कर सकते हैं। कुछ साल पहले UPSSSC Sub Engineer के लिए कई सारे पदों पर Requirement जारी किया गया था जिसका Exam इस साल होने वाले है। ऐसे में उम्मीदवार इस Previous Year Paper से अपनी तैयारी का आंकलन कर सकते हैं।

UPSSSC Junior Engieer Previous Year Paper: Government Job Sector में Compettion बढ़ता ही जा रहा है ऐसे में छात्रों को ध्यान केंद्रित, ईमानदारी और समर्पण के साथ तैयारी करनी चाहिए। UPSSSC Sub Engineer Exam या फिर अन्य Exam की तैयारी के लिए सबसे बेहतरीन तरीका है Previous Year Paper को Solve करना। इस Previous Year Paper को Solve कर आप वास्तविक परीक्षा का अनुभव पा सकते हैं और इससे अपने Self-confidence को बढ़ा सकते हैं। तो इस वेबसाइट से UPSSSC Sub Engineer Previous Year Paper Download कर Exam में अच्छा Performence हासिल करें।

UPSSSC Junior Engineer Syllabus 2022 In Hindi: UPSSSC Junior Engineer के Exam में दो Paper होते है। Paper-1 के Exam में भी दो Paper होते है जिसमे Paper-1 से Hindi, English विषय से प्रश्न पूछे जाते है Paper-2 से General Knowledge, General Awareness और Computer विषय से प्रश्न पूछा जाता है।

वही Paper-2 के Exam में भी दो Paper होते है जिसमें Paper -1 के Exam में Electrical Engineering, Civil Engineering, Mechnical Engineering, Agricultural Engineering विषय से प्रश्न पूछा जाता है। Paper-2 के Exam में Environment, Public Health, Electronics, Automobiles, Rural Engineering, Chemical, Printing Technology and Refrigeration जैसे विषय से प्रश्न पूछा जाता है।

UPSSSC Junior Engineer Exam Pattern 2022: जैसा की मैंने बताया है की UPSSSC Junior Engineer Exam के दो Paper होते है। जिसमें से Paper-1 के Exam में भी दो Paper होते है Paper-1 से दो विषय से 25-25 Question 50-50 Marks के पूछे जाते है वही Paper-2 से 100 Question 300 Marks के पूछे जाते हैं और इस Exam की समय अवधि 2 घंटे की होती है।

वही Paper -2 के Exam में भी दो Paper होते है जिसमें से Paper-1 और Paper-2 दोनों Paper को मिलाकर 150 Question 600 Marks का पूछा जाता है। इस Exam की भी समय अवधि 2 घंटे की होती है। आपके जानकारी के लिए बता दे की UPSSSC Junior Engineer के Exam में Negative Marking भी रखा गया है अगर आप किसी Question का गलत उत्तर देते है तो 1/4 Ratio के अनुसार आपके अंक काट लिए जायेंगे।

तो चलिए अब बिना समय बर्बाद किए UPSSSC Junior Engineer Previous Year Paper Hindi और English दोनों भाषा में Download करते हैं। इसके अलावे Syllabus के टॉपिक और Exam Pattern को Table के माध्यम से और अच्छे से समझते हैं।

UPSSSC Junior Engineer Previous Year Paper In Hindi & English 2021

UPSSSC Junior Engineer Previous Year Paper
UPSSSC Junior Engineer Electrical Paper-II 2021Download
UPSSSC Junior Engineer Mechanical Paper 2021 Download
UPSSSC Junior Engineer Civil- II Paper 2021 Download
UPSSSC Junior Engineer General Section Paper 2021 Download
UPSSSC Junior Engineer Question Paper-1 2016 Download
UPSSSC Junior Engineer Question Paper-2 2016 Download
UPSSSC Junior Engineer Question Paper-1 2015Download
UPSSSC Junior Engineer Question Paper-2 2015Download

ये भी पढ़े: UKPSC Junior Engineer Previous Year Paper

Note: इस लेख में मैंने कुक PDF File Testbook Website का दिया है। आप Testbook पर जाकर UPSSSC Junior Engineer के लिए Mock Test Practice कर सकते हैं।

UPSSSC Junior Engineer Syllabus 2022 In Hindi Paper-1

  • Paper-1: General English: Antonyms, Types of Sentences, Articles, Tenses, Nouns, Prepositions, Comprehension, Active and Passive voice, Spotting errors, Idioms, and phrases, Double Synonyms, Synonyms, Reconstruction of sentences, Sentence improvement, Theme detection, Vocabulary test, Pronouns, Verbs, Subject-verb Agreement, Connectors, Direct and Indirect speech, Comparison.
  • Hindi: अनेकार्थी शब्द वाक्य संशोधन -लिंग, कारक, पर्यायवाची, लोकोक्तियाँ, संधियां, वाक्यांशों के लिए एक शब्द, मुहावरे, समास, त्रुटि से सम्बंधित, वचन, वर्तनी, काल, उपसर्ग, प्रत्यय, अव्यय, संधि, अलंकार, रस, विलोम शब्द, तत्सम-तद्भव, पर्यायवाची शब्द, एकार्थक शब्द।
  • Computer: कंप्यूटर परिधीय उपकरण, संख्या प्रणाली, लैंग्वेज, एमएस ऑफिस, म एस वर्ड, एमएस एक्सेल, ईमेल, स्मृति, इंटरनेट, मोडम, ऑपरेटिंग सिस्टम।
  • Paper-2: General Awareness: भारतीय इतिहास, भारतीय राजनीति, आईटी और अंतरिक्ष, खेल, भूगोल, भारतीय संविधान, भारतीय संस्कृति और विरासत, भारतीय अर्थव्यवस्था, वर्तमान घटनाएं – राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय, भारतीय भूगोल, विज्ञान प्रौद्योगिकी, महत्वपूर्ण घटना।

UPSSSC Junior Engineer Syllabus 2022 In Hindi Paper-2

  • Paper-1 Mechanical Engineering: चक्का और ऊर्जा का लचीलापन, बेल्ट द्वारा पावर ट्रांसमिशन – वी बेल्ट और फ्लैट बेल्ट, क्लच – प्लेट और शंक्वाकार गियर, गियर के प्रकार, गियर प्रोफाइल और गियर अनुपात गणना, गवर्नर के प्रिंसिपल और स्पष्टीकरण, इंजीनियरिंग मशीन और सामग्री की ताकत, रिवेटेड संयुक्त, कैम्स, बियरिंग्स, लॉ ऑफ मोशन, फिक्शन, कॉन्सेप्ट स्ट्रेस एंड स्ट्रेन, इलास्टिक लिमिट और इलास्टिक कॉन्स्टेंट, बेंडिंग मोमेंटम पॉजिटिव और शीयर फोर्स डायमीटर बार्स, सर्कुलर शाफ्ट का मरोड़, पतली दीवारों वाले प्रेशर वेसल्स, थ्योरी ऑफ मशीन एंड मशीन डिजाइन, कॉन्सेप्ट ऑफ सिंपल मशीन, फोर बार लिंकेज और लिंक मोशन, बलों का संतुलन, शुद्ध पदार्थ के गुण, डीजल साइकिल,
  • स्टीम जनरेशन, प्रोसेस वेट और सुपरहीटेड स्टेट्स के संबंध में स्टीम टेबल का परिचय, ड्रायनेस की परिभाषा, स्टीम की सुपरहीट की स्टीम डिग्री का कार्य, थर्मोडायनामिक्स के पहले नियम, स्थिर स्थिर प्रवाह के लिए स्थिति, स्थिर स्थिर प्रवाह ऊर्जा समीकरण, दूसरा नियम थर्मोडायनामिक्स की परिभाषा, सिंक की परिभाषा, हीट का स्रोत जलाशय, हेड इंजन, हेड पंप और रेफ्रिजरेटर, आईसी इंजन के लिए वायु मानक चक्र, आईसी इंजन प्रदर्शन, पंप कार्य के साथ और बिना रैंकिन साइकिल दक्षता, बॉयलर वर्गीकरण, विशिष्टता, फिटिंग और सहायक उपकरण, वायु कंप्रेसर और उनके चक्र, प्रशीतन संयंत्र के प्रधानाचार्य, नोजल और द्रव मशीन और मशीनरी, द्रव स्थैतिक, द्रव दबाव का मापन, हाइड्रोलिक टर्बाइन, केन्द्रापसारक पंप, स्पष्टीकरण, प्रिंसिपल, प्रदर्शन।
  • Civil Engineering: अर्थ वर्क, ब्रिक वर्क, (मॉड्यूलर और ट्रेडिशनल ब्रिक्स), आरसीसी वर्क, टिम्बर वर्क, पेंटिंग, शटरिंग, बिल्डिंग मैटेरियल्स, एस्टीमेटिंग, कॉस्टिंग एंड इवैल्यूएशन, सर्वेइंग, सॉयल मैकेनिक्स, इवैल्यूएशन की विधि, ट्यूबवेल, हाइड्रोलिक्स ट्रांसपोर्टेशन इंजीनियरिंग, एनवायर्नमेंटल इंजीनियरिंग, मानक परीक्षण, स्केप वैल्यू, साल्वेज वैल्यू, आइसोलेट्स और संयुक्त फुटिंग्स, पाइल्स एंड पाइल्स कैप्स, सिम्पसन रूल, सेंटरलाइन मेथड, मिड सेक्शन फॉर्मूला, प्रिंसिपल ऑफ सर्वेइंग मेजरमेंट ऑफ डिस्टेंस, वर्किंग ऑफ प्रिजमैटिक कंपास, प्लेन टेबल सर्वेइंग, यूज एंड मैन्युफैक्चरिंग/क्वेरिंग सामग्री, दरों का आकलन विश्लेषण, विधि और माप की इकाई, मूल्य और कास्ट, थियोडोलाइट ट्रैवर्सिंग, गिनती की लेबलिंग विधि, डंपी स्तर का अस्थायी और स्थायी समायोजन,
  • अर्थवर्क गणना, सर्वेक्षण उपकरण, मृदा चरण आरेख की उत्पत्ति, परिभाषा व्यापक अनुपात, जल सामग्री, आईएसआई मिट्टी वर्गीकरण, प्रभावी तनाव, मिट्टी का समेकन, समेकन के प्रधानाचार्य, सक्रिय निष्क्रिय पृथ्वी दबाव, द्रव गुण, ढलान विक्षेपण बस समर्थित और कैंटिलीवर बीम, कंक्रीट प्रौद्योगिकी, कंक्रीट के गुण और उपयोग, पानी की गुणवत्ता का महत्व, जल सीमेंट अनुपात, भंडारण, बैचिंग, मिश्रण, कंक्रीट संरचना की मरम्मत और रखरखाव,
  • आरसीसी बीम फ्रैक्चरल स्ट्रेंथ शीयर स्ट्रेंथ, बॉन्ड स्ट्रेंथ, टी बीम, ट्रैक जियोमेट्रिक, पानी की गुणवत्ता, स्वच्छता की आवश्यकता, सीवेज सिस्टम, सतही जल निकासी, वायु प्रदूषण- कारण, प्रभाव, नियंत्रण, बीम के प्रकार – निर्धारित और अनिश्चित, बांध और बनाए रखने वाली दीवारें, वनवे और पृथक फुट स्लैबिंग, वनवे और टूवे, प्रबलित ईंटवर्क्स, प्रवाह का मापन, खुले चैनल में प्रवाह, पंप और टर्बाइन, राजमार्ग इंजीनियरिंग , ट्रैफिक इंजीनियरिंग, स्वीपर, हाईवे ड्रेनेज, रेलवे इंजीनियरिंग, कॉलम, सीढ़ी के मामले, रिटेनिंग वॉल, पानी की टंकी (सीमा तनाव और कार्य तनाव पद्धति पर आधारित आरसीसी डिजाइन प्रश्न, स्टील कॉलम का स्टील डिजाइन और निर्माण, बीम रूफ ट्यूसप्लेट और ग्रिड)।
  • Electrical Engineering: विभिन्न विन्यास के कंडक्टरों के लिए चुंबकीय गणना, विद्युत चुम्बकीय प्रेरण, स्व और पारस्परिक प्रेरण, पॉलीफ़ेज़ सिस्टम, ट्रांसमिशन और वितरण, अनुमान और लागत, उपयोग और विद्युत ऊर्जा, प्रतिरोध की अवधारणा, शक्ति, ऊर्जा, अधिष्ठापन, समाई, चर कारक, वर्तमान की अवधारणाएं, वोल्टेज, मूल अवधारणाएं, सर्किट कानून, चुंबकीय सर्किट, एसी बुनियादी बातों, मापन और मापने के उपकरण, इलेक्ट्रिकल मशीन, फ्रैक्शनल केडब्ल्यू मोटर्स, और सिंगल फेज इंडक्शन मोटर्स, जेनरेशन
  • मल्टीमीटर, सीआरओ का उपयोग, सिग्नल जेनरेटर, अर्थ फॉल्ट डिटेक्शन, डीसी मशीन निर्माण, डीसी मोटर्स और ब्रेक का मूल सिद्धांत, जेनरेटर, विधि, सरल सर्किट समाधान, चुंबकीय सामग्री के अंतर प्रकार, फ्लक्स की अवधारणा, स्टार और डेटा कनेक्शन, ट्राइफेज वैल्यू बिजली की, औसत वैकल्पिक जाले, शक्ति का मापन (1 चरण और 3 चरण स्नान सक्रिय और प्रतिक्रियाशील) और ऊर्जा। फ्रीक्वेंसी और फेज एंगल, एरेटर और वोल्टमीटर दोनों का मूविंग ऑयल और मूविंग आयरन का मापन।
  • रेंज वाटमीटर का क्रियान्वयन, ट्रांसफार्मर निर्माण, संचालन का सिद्धांत, वोल्टेज विनियमन, ऑटो ट्रांसफार्मर, वोल्टेज का प्रभाव और गति पर आवृत्ति भिन्नता, कार्यात्मक केडब्ल्यू मोटर्स और सिंगल फेज इंडक्शन मोटर्स की विशेषताएं और अनुप्रयोग, 3 चरण ईएमएफ का उत्पादन। आर्मेचर रिएक्शन, वोल्टेज विनियमन 2 अल्टरनेटर का समानांतर संचालन, प्रकाश योजनाओं का स्टेशन, मशीन की विद्युत स्थापना और प्रासंगिक आईई नियम, अर्थिंग अभ्यास और आईई नियम, पावर स्टेशनों के प्रकार।
  • लॉट फैक्टर, डायवर्सिटी फैक्टर, डिमांड फैक्टर उत्पादन की लागत, पावर स्टेशन का इंटरकनेक्शन पावर फैक्टर इम्प्रूवमेंट, केबल-विभिन्न प्रकार के केबल, केबल रेटिंग और डेरेटिंग फैक्टर, वैरिएबल प्रकार के टैरिफ प्रकार के दोष, शॉर्ट सर्किट, स्विचगियर्स-सर्किट ब्रेकर की रेटिंग , अर्थ लीकेज / करंट से सुरक्षा, विभिन्न प्रणालियों की दक्षता, रोशनी, इलेक्ट्रिक हीटिंग, इलेक्ट्रिक वेल्डिंग, इलेक्ट्रोप्लेटिंग, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और मोटर्स, विभिन्न इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का काम, सरल सर्किट।
  • Agricultural Engineering: फार्म पावर इंजीनियरिंग और ऊर्जा के गैर-पारंपरिक स्रोत, आईसी इंजन, ट्रैक्टर, गैर-पारंपरिक ऊर्जा: बायोगैस प्रौद्योगिकी, पवन इंजीनियरिंग प्रौद्योगिकी, सौर ऊर्जा प्रौद्योगिकी, फसल कटाई के बाद प्रौद्योगिकी, और कृषि अपशिष्ट उद्योग, कृषि आधारित उद्योग, कृषि और भूमि विकास मशीनरी, सिंचाई और ड्रेनेज इंजीनियरिंग, पौधों की पानी की आवश्यकता, सिंचाई विधि, ड्रेनेज इंजीनियरिंग, लघु सिंचाई, मिट्टी, और जल संरक्षण और भूमि सुधार इंजीनियरिंग, भूमि सुधार, रिवाइन रिक्लेमेशन।

Paper-2: ग्रामीण इंजीनियरिंग, सार्वजनिक स्वास्थ्य, रसायन, पर्यावरण, इलेक्ट्रॉनिक्स, ऑटोमोबाइल, मुद्रण प्रौद्योगिकी और प्रशीतन, गणित, व्यावसायिक संचार, कंप्यूटर का परिचय, औद्योगिक प्रबंधन और उद्यमिता विकास, पर्यावरण शिक्षा और आपदा प्रबंधन, प्रदूषण के स्रोत, प्राकृतिक और मानव निर्मित, गुणवत्ता उपचारित अपशिष्ट जल, ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, प्लास्टिक अपशिष्ट और इसके प्रबंधन के लिए भारतीय मानक।

UPSSSC Junior Engineer Exam Pattern 2022

PaperPartSubjectQuestionsMarks Time
Paper-1Part-1English2550
Paper-1 Part-1 Hindi2550
Paper-1 Part-2 General Intelligence, Computer, Knowledge100300
Paper-2 Part-1 Civil
Electrical
Mechanical/Agricultural
150600
Paper-2 Part-2 Rural/Public
Health
Chemistry
Environment
Electronic
Automobile
Printing
Refrigeration
Total30010004 Hour

Conclusion

UPSSSC Junior Engineer Exam की तैयारी के लिए जो भी Study Material चाहिए वो मैंने इस लेख में Post के माध्यम से उपलब्ध करा दिया है। उम्मीद है की इस लेख को पढ़ने के बाद UPSSSC Junior Engineer Exam को Crack करना थोड़ा आसान लग रहा होगा। ऐसे ही जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे Telegram Channel से जुड़ सकते हैं।

Leave a Comment