UPSC Prelims Syllabus in Hindi 2022

UPSC Prelims Syllabus pdf | UPSC Prelims Syllabus In Hindi | UPSC Prelims Syllabus Subject Wise | UPSC Prelims Syllabus PDF In Hindi

यूपीएससी प्रीलिम्स सिविल सेवा परीक्षा का स्क्रीनिंग चरण है जो हर साल संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित किया जाता है। इस चरण को आधिकारिक तौर पर सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा के रूप में जाना जाता है, लेकिन आम बोलचाल में, उम्मीदवार इसे  यूपीएससी प्रीलिम्स या आईएएस प्रारंभिक परीक्षा के रूप में संदर्भित करते हैं। यूपीएससी परीक्षा का आधिकारिक पाठ्यक्रम यूपीएससी नोटिफिकेशन के साथ जारी किया जाता है ।

किसी भी परीक्षा के लिऐ उसका सिलेबस जानना बहुत महत्वपूर्ण है और यूपीएससी जैसी भारत की सबसे श्रेष्ठ परीक्षा के तैयारी के लिए  कि UPSC प्रीलिम्स सिलेबस क्या है, और यह लेख आपको विस्तार से उत्तर प्रदान करता है।

UPSC Prelims Syllabus

IAS प्रारंभिक परीक्षा का सिलेबस

UPSC प्रीलिम्स पाठ्यक्रम को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है:

  1. सामान्य अध्ययन पेपर I
  2. UPSC सिविल सेवा परीक्षा – सामान्य अध्ययन (पेपर – 1) परीक्षा का पाठ्य विवरण (Syllabus)
  3. प्रश्नपत्र- I (200 अंक) अवधि: दो घंटे:
  4. राष्ट्रीय और अंतर्रराष्ट्रीय महत्व की सामयिक घटनाएं.
  5. भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन।
  6. आधुनिक भारतीय इतिहास अठारहवीं शताब्दी के मध्य से लेकर वर्तमान तक- महत्वपूर्ण घटनाएं, व्यक्तित्व, मुद्दे।
  7. स्वतंत्रता संग्राम – इसके विभिन्न चरण और देश के विभिन्न हिस्सों से महत्वपूर्ण योगदानकर्ता / योगदान।
  8. स्वतंत्रता के बाद देश के भीतर समेकन और पुनर्गठन।
  9. विश्व के इतिहास में 18वीं शताब्दी की घटनाएं शामिल होंगी जैसे औद्योगिक क्रांति, विश्व युद्ध, राष्ट्रीय सीमाओं का पुनर्निमाण, औपनिवेशीकरण, उपनिवेशवाद, राजनीतिक दर्शन जैसे साम्यवाद, पूंजीवाद, समाजवाद आदि- उनके रूप और समाज पर प्रभाव।
  10. कला और संस्कृति     
  11. प्राचीन काल से आधुनिक काल तक कला रूपों, साहित्य और वास्तुकला के मुख्य पहलू
  12. भूगोल: विश्व के भौतिक भूगोल की मुख्य विशेषताएं।
  13. दुनिया भर में प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों का वितरण (दक्षिण एशिया और भारतीय उपमहाद्वीप सहित); दुनिया के विभिन्न हिस्सों (भारत सहित) में प्राथमिक, माध्यमिक और तृतीयक क्षेत्र के उद्योगों के स्थान के लिए जिम्मेदार कारक।
  14. भूकंप, सुनामी, ज्वालामुखी गतिविधि, चक्रवात आदि जैसी महत्वपूर्ण भूभौतिकीय घटनाएं, भौगोलिक विशेषताएं और उनके स्थान-महत्वपूर्ण भौगोलिक विशेषताओं (जल-निकायों और बर्फ-टोपी सहित) और वनस्पतियों और जीवों में परिवर्तन और ऐसे परिवर्तनों के प्रभाव।
  15. भारतीय समाज: भारतीय समाज की मुख्य विशेषताएं, भारत की विविधता।
  16. महिला और महिला संगठन की भूमिका, जनसंख्या और संबद्ध मुद्दे
  17. गरीबी और विकास संबंधी मुद्दे,
  18. शहरीकरण, उनकी समस्याएं और उनके उपाय।
  19. भारतीय समाज पर वैश्वीकरण के प्रभाव।
  20. सामाजिक अधिकारिता
  21. सांप्रदायिकता
  22. क्षेत्रवाद
  23. धर्मनिरपेक्षता।
  24. उम्मीदवार नीचे दी गई तालिका में उल्लिखित लिंक से भूगोल पाठ्यक्रम की पूरी समझ प्राप्त कर सकते हैं:
  25. इतिहास, कला और संस्कृति

स्वतंत्रता संग्राम, रॉलेट एक्ट और जलियांवाला बाग हत्याकांड, नमक सत्याग्रह, वुड्स डिस्पैच, पाखंड, भारत के शास्त्रीय नृत्यों के प्रकार, भारत की जनजातीय पेंटिंग, मंदिर वास्तुकला शैलियाँ,भारतीय समाज, महिला सशक्तिकरण, गरीबी, सांप्रदायिभूगो, भूगोल, भूकंप, चक्रवात, अम्फान चक्रवात, निसर्ग चक्रवात, चट्टानों के प्रकार और अपरदन भू-आकृतियाँ।

जैसा कि हम यूपीएससी जीएस 1 पाठ्यक्रम से देख सकते हैं, सीधे विषयों से प्रश्न पूछे जाने की संभावना है और करंट अफेयर्स आधारित दृष्टिकोण का उपयोग करके भी पूछे जा सकते हैं। यूपीएससी के उम्मीदवार परीक्षा को बेहतर ढंग से समझने के लिए आईएएस टॉपर रणनीतियों का भी उल्लेख कर सकते हैं।

  • भारत एवं विश्व भूगोल – भारत एवं विश्व का प्राकृतिक, सामाजिक, आर्थिक भूगोल
  • भारतीय राज्यतन्त्र और शासन – संविधान, राजनैतिक प्रणाली, पंचायती राज, लोक नीति, अधिकारों संबंधी मुद्दे, आदि।
  • आर्थिक और सामाजिक विकास – सतत वकास, गरीबी, समावेशन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र में की गई पहल आदि।
  • पर्यावरणीय पारिस्थितिकी जैव-विविधता और मौसम परिवर्तन संबंधी सामान्य मुद्दे, जिनके लिए विषयगत विशेषज्ञता आवश्यक नहीं है।
  • सामान्य विज्ञान

UPSC Prelims Syllabus In Hindi & English Download

UPSC Prelims Syllabus

UPSC Prelims Syllabus In Hindi 2022 Download

UPSC Prelims Syllabus In English 2022 Download

  • CSAT या सामान्य अध्ययन पेपर- II

अवधि-दो घण्टे

अंक – 200

काम्प्रिहेन्सन (विस्तारीकरण)

  • अन्तर्वैयक्तिक क्षमता जिसमें सम्प्रेषण कौशल भी समाहित होगा।
  • तार्किक एवं विश्लेषणात्मक योग्यता।
  • निर्णय क्षमता एवं समस्या समाधान।
  • सामान्य बौद्धिक योग्यता।
  • प्रारम्भिक गणित हाईस्कूल स्तर तक- अंकगणित, बीजगणित, रेखागणित व सांख्यिकी।
  • सामान्य अंग्रेजी हाईस्कूल स्तर तक।
  • सामान्य हिन्दी हाईस्कूल स्तर तक।
  • प्रारम्भिक गणित (हाईस्कूल स्तर तक) के पाठ्यक्रम में सम्मिलित किये जाने वाले विषय
  • अंकगणितः

संख्या पद्धतिः प्राकृतिक, पूर्णांक, परिमेय-अपरिमेय एवं वास्तविक संख्यायें, पूर्णांक संख्याओं के विभाजक एवं अविभाज्य पूर्णांक संख्यायें। पूर्णांक संख्याओं का लघुत्तम समापवत्र्य एवं महत्तम समापवत्र्य तथा उनमें सम्बन्ध।

  • औसत
  • अनुपात एवं समानुपात
  • प्रतिशत
  • लाभ-हानि
  • ब्याज- साधारण एवं चक्रवृद्धि
  • काम तथा समय
  • चाल, समय तथा दूरी
  • बीजगणित:

(1) बहुपद के गुणनखण्ड, बहुपदों का लघुत्तम समापवत्र्य एवं महत्तम समापवत्र्य एवं उनमें सम्बन्ध, शेषफल प्रमेय, सरल युगपत समीकरण, द्विघात समीकरण

(2) समुच्चय सिद्धान्तः समुच्चय, उप समुच्चय, उचित उपसमुच्चय, रिक्त समुच्चय, समुच्चयों के बीच संक्रियायें (संघ, प्रतिछेद, अन्तर, समिमित अन्तर), बेन-आरेख

  • रेखागणितः

(1) त्रिभुज, आयत, वर्ग, समलम्ब चतुर्भुज एवं वृत्त की रचना एवं उनके गुण सम्बन्धी प्रमेय तथा परिमाप एवं उनके क्षेत्रफल,

(2) गोला, समकोणीय वृत्ताकार बेलन, समकोणीय वृत्ताकार शंकु तथा धन के आयतन एवं पृष्ठ क्षेत्रफल।

  • सांख्यिकीः आंकड़ों का संग्रह, आंकड़ों का वर्गीकरण, बारम्बारता, बारम्बारता बंटन, सारणीयन, संचयी बारम्बारता, आंकड़ों का निरूपण, दण्डचार्ट, पाई चार्ट, आयत चित्र, बारम्बारता बहुभुज, संचयी बारम्बारता

वक्र, केन्द्रीय प्रवृत्ति की माप- समान्तर माध्य, माध्यिका एवं बहुलक।

General English Upto Class X Level

1. Comprehension

2. Active Voice and Passive Voice

3. Parts of Speech

4. Transformation of Sentences

5. Direct and Indirect Speech

6. Punctuation and Spellings

7. Words meanings

8. Vocabulary & Usage

9. Idioms and Phrases

10. Fill in the Blanks

सामान्य हिन्दी (हाईस्कूल स्तर तक) के पाठ्यक्रम में सम्मिलित किये जाने वाले विषय

(1) हिन्दी वर्णमाला, विराम चिन्ह

(2) शब्द रचना, वाक्य रचना, अर्थ

(3) शब्द-रूप

(4) संधि, समास

(5) क्रियायें

(6) अनेकार्थी शब्द

(7) विलोम शब्द

(8) पर्यायवाची शब्द

(9) मुहावरे एवं लोकोक्तियां

(10) तत्सम एवं तद्भव, देशज, विदेशी (शब्द भंडार)

(11) वर्तनी

(12) अर्थबोध

(13) हिन्दी भाषा के प्रयोग में होने वाली अशुद्धियाँ

(14) उ0प्र0 की मुख्य बोलियाँ

UPSC Prelims Exam Pattern

परीक्षा का नाम: सिविल सेवा परीक्षा (यूपीएससी सीएसई)

आयोजक निकाय: संघ लोक सेवा आयोग

परीक्षा का मोड: ऑफलाइन

यूपीएयूपीएससी पेपर पैटर्न प्रिलिम्स- एमसीक्यू आधार

व्यक्तित्व परीक्षण – बोर्ड सदस्यों द्वारा साक्षात्का

चरणों की संख्या: प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा

साक्षत्कार

प्रिलिम्स: 2

मेन्स: 9

यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा प्रारूप: अंकन योजना

पेपर 1: +2 अंक

पेपर 2: +2.5 अंक

नकारात्मक अंकन: प्रत्येक प्रश्न के लिए आवंटित अंकों एक तिहाई भाग

प्रारंभिक परीक्षा: 2 घंटे (प्रत्येक पेपर) कुल 4 घंटे

मुख्य: 3 घंटे (प्रत्येक पेपर)

प्रीलिम्स: ऑब्जेक्टिव टाइप

मेन्स: सब्जेक्टिव टाइप

Conclusion:-

देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक के रूप में जानी जाने वाली सिविल सेवा परीक्षा का एक व्यापक पाठ्यक्रम है। UPSC पाठ्यक्रम को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि यह उम्मीदवारों के ज्ञान का परीक्षण करता है, एक नहीं बल्कि रुचि के कई क्षेत्रों में। IAS पाठ्यक्रम की लंबाई और चौड़ाई को देखते हुए, इसे आमतौर पर कठिन अंत माना जाता है। हालांकि, एक उचित रणनीति के साथ, इसे नियत समय में कवर किया जा सकता है।

Also Read: Last 10 Years UPSC Previous Question Paper

FAQs:-

प्रीलिम्स एग्जाम क्या होता है?

प्रीलिम्स परीक्षा का आयोजन ऑफलाइन माध्यम में किया जा रहा है. जो उम्मीदवार यूपीएससी की सिविल सर्विस प्री परीक्षा देने जा रहे हैं वो अपना एडमिट कार्ड यूपीएससी की वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं. परीक्षा में जाने से पहले उम्मीदवारों को कुछ तैयारी के साथ जाना होगा.

प्रीलिम्स की परीक्षा में क्या आता है?

IAS प्रीलिम्स में जनरल स्टडीज I पेपर में इतिहास, भूगोल, अर्थव्यवस्था, राजनीति और शासन, सामान्य विज्ञान और सबसे महत्वपूर्ण करंट अफेयर्स के विषय शामिल हैं। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की घटनाएं। भारतीय इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन। भारतीय के साथ-साथ विश्व भूगोल-भौतिक, सामाजिक, भारत और विश्व का आर्थिक भूगोल।

आईएएस बनने के लिए कितने नंबर लाने पड़ते हैं?

अगर आपको आईएएस बनना है तो अगर हम मार्क्स की बात करें तो आपके तकरीबन मुख्य परीक्षा में 900 मार्क्स से अधिक आने चाहिए।

Leave a Comment