RAS Syllabus in Hindi 2023 PDF Download

RAS Syllabus pdf in hindi | RPSC Syllabus in Hindi | RAS PRE Syllabus pdf in hindi | RAS Mains Syllabus in hindi pdf

Ras Syllabus in Hindi: RPSC RAS Exam Syllabus के बारे में हम आज पूरी जाकारी देने वाले है तो अगर Exam निकालनी है तो इसे ध्यान से पढ़ें और समझे। सबसे पहले RAS Exam को देने लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए। उसके बाद आपकी उम्र 21 से 40 के बीच होना चाहिए। दोस्तो Ras Exam Mains मे पूरे 4 एक्जाम होते है और प्रत्येक एक्जाम में पुरे 150 प्रश्न 200 नंबर के पुछे जाते है उसके बाद लास्ट में 100 नंबर का इंटरव्यू होता है। जिनको हल करने के लिए परिच्छारती को 2 घंटे का समय मिलता है। इस परीक्षा में सभी प्रश्न ऑब्जेक्टिव टाइप के होते है। अगर आपने प्रश्न का उत्तर गलती दिए तो आपका निगेटिव मार्किंग 1/3 किया जाएगा। मेन्स एग्जाम तक पहुंचने के लिए सभी विद्यार्थी को इस एक्जाम को क्वालीफाई करना अनिवार्य है।

आरपीएससी आरएएस भर्ती में उम्मीदवारों का चयन प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा, और साक्षात्कार के आधार पर किया जाता है। इसीलिए उम्मीदवारों को राजस्थान आरएएस भर्ती 2022 पाठ्यक्रम को जानना चाहिए। ताकि वे Ras Exam Syllabus के अनुसार अच्छी तरह से तैयारी कर सकें। आरपीएससी आरएएस भर्ती 2022 पाठ्यक्रम जल्द ही आरपीएससी की आधिकारिक वेवसाइट पर जारी किया जायेगा। वर्तमान में हम आपको RAS का सिलेबस दे रहे है। हम यह पाठ्यक्रम केवल हिंदी में दे रहे है।

Table of Contents

PRE & Mains RAS Syllabus In Hindi PDF Download 2023

RAS Syllabus in Hindi
RAS Syllabus in Hindi
SubjectNumberTime
सामान्य ज्ञान और सामान्य विज्ञान2003 घण्टे

1.राजस्थान का इतिहास, कला, संस्कृति, साहित्य, परम्परा एवं विरासत :

प्रमुख राजवंशों के महत्वपूर्ण शासकों की राजनीतिक एवं सांस्कृतिक उपलब्धियों-गुहिल, प्रतिहार, चौहान, परमार, राठौड़, सिसोदिया और कच्छावा ,मध्यकालीन राजस्थान में प्रशासनिक तथा राजस्व व्यवस्थाआधुनिक राजस्थान का उदय -19वीं- 20वीं शताब्दी के दौरान राजस्थान में सामाजिक जागृति के कारक। राजनीतिक जागरण: समाचार पत्रों एवं राजनीतिक संस्थाओं की भूमिका ,20वीं शताब्दी में जनजाति तथा किसान आन्दोलन, 20वीं शताब्दी के दौरान विभिन्न देशी रियासतों में प्रजामण्डल आन्दोलन। राजस्थान का एकीकरण।

  • धार्मिक जीवन : धार्मिक समुदाय, राजस्थान में संत एवं सम्प्रदाय। राजस्थान के लोक देवी-देवता।
  • भाषा एवं साहित्य :राजस्थानी भाषा की बोलियाँ , राजस्थानी भाषा का साहित्य एवं लोक साहित्य।
  • प्रदर्शन कला : शास्त्रीय संगीत एवं शास्त्रीय नृत्य, लोक संगीत एवं वाद्य, लोक नृत्य एवं नाट्य।
  • राजस्थान की वास्तु परम्परा :मंदिर, किले, महल एवं मानव निर्मित जलीय संरचनाएँ, चित्रकला की विभिन्न शैलियों और हस्तशिल्प।
  • राजस्थान के प्रागैतिहासिक स्थल- पुरापाषाण से ताम्र पाषाण एवं कांस्य युग तक।
  • ऐतिहासिक राजस्थान: प्रारंम्भिक ईस्वी काल के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक केन्द्र ,प्राचीन राजस्थान में समाज, धर्म एवं संस्कृति।
  • राजस्थान के प्रमुख व्यक्तित्व।
  • राजस्थान में सामाजिक जीवन :मेले एवं त्योहार, सामाजिक रीति-रिवाज तथा परम्पराये, वेशभूषा एवं आभूषण।

2.भारत का इतिहास : (प्राचीनकाल एवं मध्यकाल)

  • सल्तनतकाल: प्रमुख सल्तनत शासकों की उपलब्धियों ,विजयनगर की सांस्कृतिक उपलब्धियाँ।
  • भक्ति तथा सूफी आंदोलन का धार्मिक एवं साहित्यिक योगदान।
  • प्रमुख राजवंशों के महत्वपूर्ण शासकों की उपलब्धियाँ :मौर्य, कुषाण, सातवाहन, गुप्त, चालुक्य, पल्लव एवं चोल।
  • प्राचीन भारत में कला एवं वास्तु।
  • प्राचीन भारत में भाषा एवं साहित्य का विकास : संस्कृत , प्राकृत एवं तमिल ।
  • भारत के सांस्कृतिक आधार- सिन्धु एवं वैदिक काल: छठी शताब्दी ई. पू. की श्रमण परम्परा और नये धार्मिक विचार- आजीवक, बौद्ध तथा जैन।
  • मुगलकाल : राजनीतिक चुनौतियाँ एवं सुलह-अफगान, राजपूत, दक्कनी राज्य और मराठा।
  • मध्यकाल में कला एवं वास्तु ,चित्रकला एवं संगीत का विकास।

आधुनिक काल (प्रारम्भिक 19वीं शताब्दी से 1964 तक):

  • स्वातंत्र्योत्तर राष्ट्र निर्माण- राज्यों का भाषायी पुनर्गठन; नेहरू युग में सांस्थानिक निर्माण, विज्ञान एवं तकनीकी का विकास।
  • शिक्षा; 19वीं शताब्दी के दौरान सामाजिक-धार्मिक सुधार- विभिन्न नेता एवं संस्थाएँ।
  • स्वतंत्रता संघर्ष एवं भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन- विभिन्न अवस्थाएँ, धाराएँ, महत्वपूर्ण योगदानकर्ता एवं देश के अलग-अलग हिस्सों का योगदान।
  • आधुनिक भारत का विकास एवं राष्ट्रवाद का उदय : बौद्धिक जागरण ,प्रेस, पश्चिमी।

3.विश्व एवं भारत का भूगोल :

विश्व का भूगोल

  • प्रमुख नदियों एवं झीलें
  • पर्यावरणीय मुद्दे- मरूस्थलीकरण, वनोन्मूलन, जलवायु परिवर्तन एवं ग्लोबल वार्मिंग (ऊष्मीकरण),ओजन अवक्षय
  • प्रमुख स्थलाकृतियाँ- पर्वत, पठार, मैदान एवं मरूस्थल
  • प्रमुख औद्योगिक प्रदेश
  • कृषि के प्रकार

भारत का भूगोल:

  • ऊर्जा संसाधन परम्परागत एवं गैर-परम्परागत
  • प्रमुख खनिज-लौह अयस्क, मैगनीज, बॉक्साइट एवं अभ्रक
  • मानसून तंत्र व वर्षा का वितरण
  • प्रमुख फसले- गेहूँ, चावल, कपास, गन्ना, चाय एवं कॉफी
  • राष्ट्रीय राजमार्ग एवं प्रमुख परिवहन गलियारे
  • प्रमुख स्थलाकृतियाँ- पर्वत पठार एवं मैदान
  • प्रमुख औद्योगिक प्रदेश
  • प्रमुख नदियों एवं झीलें

4.राजस्थान का भूगोल :

  • जनसंख्या वृद्धि, घनत्व, साक्षरता, लिंगानुपात एवं प्रमुख जनजातियाँ
  • प्रमुख फसलें- गेहूँ मक्का, जौ, कपास, गन्ना, एवं बाजरा
  • ऊर्जा संसाधन- परम्परागत एवं गैर-परम्परागत
  • प्रमुख सिंचाई परियोजनाएँ एवं जल संरक्षण तकनीकें
  • प्रमुख भू-आकृतिक प्रदेश एवं उनकी विशेषताएं
  • जैव-विविधता एवं इनका संरक्षण
  • प्राकृतिक वनस्पति एवं मृदा
  • प्रमुख नदियाँ एवं झीलें
  • खनिज- धात्विक एवं अधात्विक
  • जलवायु की विशेषताएं
  • पर्यटन स्थल एवं परिपथ
  • प्रमुख उद्योग

5.भारतीय संविधान, राजनीतिक व्यवस्था एवं शासन प्रणाली :

भारतीय संविधानः दार्शनिक तत्व :

  • संविधान सभा, भारतीय संविधान की विशेषताएं, संवैधानिक संशोधन।
  • उद्देशिका, मूल अधिकार, राज्य नीति के निदेशक तत्व मूल कर्तव्य।

भारतीय राजनीतिक व्यवस्था :

  • संघवाद, भारत में लोकतांत्रिक राजनीति गठबंधन सरकारें राष्ट्रीय एकीकरण
  • राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री एवं मंत्रिपरिषद्, संसद, उच्चतम न्यायालय और न्यायिक पुनरावलोकन।
  • भारत निर्वाचन आयोग, नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक नीति आयोग, केन्द्रीय सतर्कता आयोग, लोकपाल, केन्द्रीय सूचना आयोग एवं राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग

6.राजस्थान की राजनीतिक एवं प्रशासनिक व्यवस्था :

राज्य की राजनीतिक व्यवस्था :

राज्यपाल, मुख्यमंत्री और मंत्रिपरिषद्, विधानसभा, उच्च न्यायालय

प्रशासनिक व्यवस्था: 

जिला प्रशासन, स्थानीय स्वशासन एवं पंचायती राज संस्थाएं।

संस्थाएं: 

राजस्थान लोक सेवा आयोग, राज्य मानवाधिकार आयोग, लोकायुक्त, राज्य निर्वाचन आयोग, राज्य सूचना आयोग।

लोक नीति एवं अधिकार :

लोक नीति, विधिक अधिकार एवं नागरिक अधिकार-पत्र।

7.आर्थिक अवधारणाएँ एवं भारतीय अर्थव्यवस्था :

अर्थशास्त्र की मूलभूत अवधारणाएं-

  • बजट निर्माण, बैंकिंग, लोक वित्त, वस्तु एवं सेवा कर. राष्ट्रीय आय, संवृद्धि ज्ञान एवं विकास का आधारभूत ज्ञान 
  • लेखांकन- अवधारणा, उपकरण एवं प्रशासन में उपयोग 
  • स्टॉक एक्सचेंज एवं शेयर बाजार
  • राजकोषीय एवं मौद्रिक नीतियाँ
  • सब्सिडी, लोक वितरण प्रणाली
  • ई-कॉमर्स 
  • मुद्रास्फीति- अवधारणा प्रभाव एवं नियंत्रण तंत्र

आर्थिक विकास एवं आयोजन:

अर्थव्यवस्था के प्रमुख क्षेत्र: कृषि, उद्योग, सेवा एवं व्यापार क्षेत्रों की वर्तमान स्थिति मुद्दे एवं पहल प्रमुख आर्थिक समस्याएं एवं सरकार की पहल, आर्थिक सुधार एवं उदारीकरण।

मानव संसाधन एवं आर्थिक विकास:

  • गरीबी एवं बेरोजगारी- अवधारणा, प्रकार, कारण, निदान एव वर्तमान फ्लेगशिप योजनाएं
  • मानव विकास सूचकांक
  • वैश्विक खुशहाली सूचकांक 

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता:

कमजोर वर्गों के लिए प्रावधान।

8.राजस्थान की अर्थव्यवस्था :

  • आधारभूत संरचना एवं संसाधन
  • संवृद्धि ,विकास एवं आयोजना
  • कृषि ,उद्द्योग व सेवा क्षेत्र के प्रमुख मुद्दे
  • प्रमुख विकास परियोजनायें
  • राज्य सरकार की प्रमुख कल्याणकारी योजनाऐं: अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यको निःशक्तजनों, निराश्रितों, महिलाओं, बच्चों वृद्धजनों कृषकों एवं श्रमिकों के लिए।
  • अर्थव्यवस्था का वृहत् परिदृश्य

9.विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी :

  • जैव-विविधता, प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण एवं संधारणीय विकास
  • आहार एवं पोषण, रक्त समूह एवं Rh कारक
  • नैनो-प्रौद्योगिकी, जैव-प्रौद्योगिकी एवं अनुवंशिक-अभियांत्रिकी
  • स्वास्थ्य देखभाल, संक्रामक, असंक्रामक एवं पशुजन्य रोग
  • पर्यावरणीय एवं पारिस्थितिकीय परिवर्तन एवं इनके प्रभाव
  • कम्प्यूटर्स, सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकी
  • कृषि-विज्ञान, उद्यान-विज्ञान, वानिकी एवं पशुपालन राजस्थान के विशेष संदर्भ में
  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विकास राजस्थान के विशेष संदर्भ में
  • दैनिक जीवन में विज्ञान के मूलभूत तत्व
  • रक्षा प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी एवं उपग्रह

10.तार्किक विवेचन एवं मानसिक योग्यता :

  • तार्किक दक्षता (निगमनात्मक, आगमनात्मक, अपवर्तनात्मक ): कथन एवं मान्यताएं,कथन एवं तर्क,कथन एवं निष्कर्ष, कथन-कार्यवाही,. विश्लेषणात्मक तर्कक्षमता
  • मानसिक योग्यता : संख्या / अक्षर अनुक्रम,कूटवाचन (कोडिंग-डीकोडिंग),संबंधों से संबंधित समस्याएं,दिशा ज्ञान परीक्षण,तार्किक वेन आरेख,दर्पण / पानी प्रतिबिम्ब,आकार और उनके उपविभाजन
  • आधारभूत संख्यात्मक दक्षता : अनुपात -समानुपात तथा साझा,प्रतिशत,साधारण एवं चक्रवृद्धि ब्याज,समतलीय चित्रों के परिमाप एवं क्षेत्र,आंकडों का विश्लेषण (सारणी दण्ड-आरेख, रेखीय आलेख पाई चार्ट) ,माध्य (समांतर, गुणोत्तर एवं हरात्मक),माध्यिका एवं बहुलक,क्रमचय एवं संचय,प्रायिकता ( सरल समस्याए )

11.समसामयिक घटनाएं :

  • राजस्थान, भारतीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय महत्व की प्रमुख समसामयिक घटनाएं एवं मुद्दे
  • वर्तमान में चर्चित व्यक्ति, स्थान एवं संस्थाए
  • खेल एवं खेलकूद संबंधी गतिविधियां
SUBJECTNumberTime
सामान्य अध्ययन- 1 2003 घंटे
सामान्य अध्ययन- 22003 घंटे
सामान्य अध्ययन- 32003 घंटे
सामान्य हिन्दी एवं सामान्य अंग्रेजी2003 घंटे

RAS Syllabus in Hindi 2023 PDF Download

Conclusion

RAS Exam के Syllabus के बारे में मैंने कुछ जानकारी ऊपर आर्टिकल में दी है और कुछ PDF Format में उपलब्ध कराया है। उम्मीद है की इस आर्टिकल में दी हुई जानकारी आपके काम आये हो। इस Syllabus से जुड़ा कोई सवाल अगर मन में है तो आप हमसे Comment Section में पूछ सकते हैं। अगर आप RAS Pevious Year Paper को Download करना चाहते है तो इस लिंक पर Click करें।

FAQ

RAS Prelims के Exam में कौन-कौन विषय से प्रश्न पूछे जाते हैं।

RAS Prelims के Exam के सामान्य ज्ञान और सामान्य विज्ञान से 200 अंक का प्रश्न पूछा जाता है।

RAS Mains के Exam में कौन-कौन विषय से प्रश्न पूछे जाते हैं।

RAS Mains के Exam में सामान्य अध्ययन- 1, सामान्य अध्ययन- 2, सामान्य अध्ययन- 3, सामान्य हिन्दी एवं सामान्य अंग्रेजी से 200-200 अंक का प्रश्न पूछा जाता है।

क्या RAS के Exam में Negative Marking को भी रखा गया है।

जी हाँ, अगर आप किसी प्रश्न का गलत उत्तर देते है तो आपके 1/3 के अनुसार अंक काट लिए जायेंगे।

Leave a Comment